बुधवार, 14 दिसंबर 2011

असुविधा: जिन रगों में में बहते थे अरमान से

असुविधा: जिन रगों में में बहते थे अरमान से

.
रहनुमा गुमराह हो बेशक मगर ,
खेलेंगे ये खेल हम जी-जान से !!

पूरी ग़ज़ल में यह शेर एक शम्मा की तरह है जैसे जिसे यकायक बिजली चले जाने के बाद कोई जलाकर रख गया हो ! यह उजाला हमें हमारी पहचान से जोड़े रखेगा !
इस ग़ज़ल की खासियत यह है कि सभी शेर एक ही भाव-भूमि पर कहे गए हैं ! बहुत बहुत बधाई बुधवार जी और अशोक जी का धन्यवाद !

1 टिप्पणी:

  1. मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
    Health World in Hindi

    उत्तर देंहटाएं